ग्लोब हास्पिटल लखनऊ में भर्ती छात्रसभा मऊ के पूर्व जिलाध्यक्ष योगेंद्र का जाना हाल उम्मीद से ज्यादा की आर्थिक मदद, धन के अभाव में इलाज नहीं रुकने का राजीव राय ने दिया भरोसा

1 min read

मऊ व बलिया के अब तक अनगिनत लोगों की मुसीबत में खेवनहार बन चुके समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय सचिव/प्रवक्ता व घोसी लोकसभा के पूर्व प्रत्याशी राजीव राय ने गुरुवार को एक बार फिर अपनी दरियादिली दिखाई। लखनऊ के ग्लोब हास्पिटल में लीवर सिरोसिस रोग से पीड़ित होकर चार दिन से भर्ती समाजवादी छात्रसभा मऊ के पूर्व जिलाध्यक्ष योगेंद्र यादव योगी का हाल जाना। इलाज कराने में आर्थिक तंगी से जूझ रहे योगी के परिजनों की मदद को हाथ खोल दिए। पहले ही दिन उम्मीद से अधिक आर्थिक मदद की। साथ ही आश्वस्त किया कि योगी का बेहतर से बेहतर से इलाज करायें। धन के अभाव में उपचार नहीं रुकेगा यह मेरी गारंटी है। राजीव राय की उदारता व आश्वासन ने योगी व उनके परिजनों को बड़ी राहत प्रदान की है।

समाजवादी छात्रसभा के पूर्व जिलाध्यक्ष योगेंद्र यादव योगी लीवर सिरोसिस की गंभीर बीमारी से जूझ रहे हैं। उनकी हालत खराब होने पर परिजन चार दिन पूर्व इलाज के लिये लखनऊ ले गये। वहां निजी अस्पताल ग्लोब हास्पिटल में भर्ती कराया गया। प्रथम चरण में लीवर के इंफेक्शन का इलाज शुरु किया गया। इलाज में प्रतिदिन दवा आदि पर 20 से 22 हजार रुपये खर्च गिर रहा है। वहां तीमारदारी में रह रहे परिजनों के भोजन आदि का खर्च जोड़ लिया जाय तो प्रतिदिन 25 हजार रुपये का औसतन खर्च है। इंफेक्शन का उपचार अभी कितने दिन चलेगा, इसकी कोई गारंटी नहीं है। इसके बाद आवश्यक हुआ तो लीवर ट्रांसप्लांट किया जा सकता है।
उपचार करा पाने में योगी के परिवार की आर्थिक स्थिति आड़े आ रही थी। समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता पूर्व जिला पंचायत सदस्य देवनाथ यादव ने दो दिन पूर्व अपने फेसबुक पर योगी के अस्पताल में भर्ती की सूचना पोस्ट करते हुए लोगों से यथासंभव मदद की अपील की। उन्होंने पार्टी के कुछ जिम्मेदार लोगों को काल करके भी मदद करने का अनुरोध किया। अपने जन्मदिन समारोह से ही मऊ के लोगों के दुख में भागीदारी दर्ज करा रहे सपा सचिव राजीव राय को भी यह जानकारी हुई। इसके बाद वह गुरुवार को लखनऊ पहुंचे और योगी के इलाज के जिम्मेदारी अपने कंधों पर ले ली।
सपा नेता देवनाथ यादव व योगी के परिजनों ने राजीव राय के प्रति कृतज्ञता जताते हुए कहा कि अब उन्हें पूरा भरोसा हो गया है कि योगी का बेहतर उपचार होगा और वह फिर से दौड़-भाग करते हुए समाजसेवा के कार्यों में बढ़ – चढ़कर भागीदारी दर्ज करा सकेंगे।

About Post Author

error: Content is protected !!